शनिवार, सितंबर 28

उड़ न पाते हम गगन में

उड़ न पाते हम गगन में



गुनगुनी सी आग भीतर
कुनकुना सा मन का पानी,
एक आशा ऊंघती सी
रेंगती सी जिन्दगानी !

फिर भला क्यों कर मिलेगा
तोहफा यह जिन्दगी का,
इक कशिश ही, तपन गहरी
पता देगी मंजिलों का !

जो जरा भी कीमती है
मांगता है दृढ़ इरादे,
एक ज्वाला हो अकंपित
 पूर्ण हों जो खुद से वादे !

दे चुनौती, बन जो प्रेरक
 गर न हों अवरोध पथ में,
आज थम सोचें जरा, क्या
उड़ सकेंगे हम गगन में ?

13 टिप्‍पणियां:

  1. दे चुनौती, बन जो प्रेरक
    गर न हों अवरोध पथ में,
    आज थम सोचें जरा, क्या
    उड़ सकेंगे हम गगन में ?... एक ओर सोचने को विविश करती तो दूसरी और प्रेरणा देती सुन्दर कविता ...
    आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल रविवार, दिनांक 29 सितम्बर 2013, को ब्लॉग प्रसारण पर भी लिंक की गई है , कृपया पधारें , औरों को भी पढ़ें और सराहें,
    साभार सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर प्रस्तुति
    आभार आदरणीया-

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक आशा ऊंघती सी
    रेंगती सी जिन्दगानी !
    .....
    आशा :: सबसे सुन्दर शब्द!
    Your poems are always inspiring!!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहले की तरह ही एक सुन्दर और प्रेरक कविता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दे चुनौती, बन जो प्रेरक
    गर न हों अवरोध पथ में,
    आज थम सोचें जरा, क्या
    उड़ सकेंगे हम गगन में ...
    हर चुनौती जो राह में आए उसको हंस के स्वीकार करने को प्रेरित करती रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहा आपने कुनमुनाती सी जिंदगी में वो प्यास भरनी होगी ……बहुत सुन्दर |

    उत्तर देंहटाएं
  7. बधाई ब्लॉगर मित्र ..सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की सूची में आपका ब्लॉग भी शामिल है |
    http://www.indiantopblogs.com/p/hindi-blog-directory.html

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रदीप जी, अनुपमा जी, शालिनी जी, सुमन जी, ओंकार जी, इमरान, दिगम्बर जी, रविकर जी, व गिरिजा जी आप सभी का स्वागत व आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार, कल 10 दिसंबर 2015 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं